We are proud of our disability identity- we are not at low, even if we move by crawling on floor. Disability rights is a way of life- it is our happiness and motivation.

हमारी क्षमता ही हमारी पहचान है…. हमारे भी बहुत अरमान है…. बैठकर चलता हूं कोई गम नही, ऐसे जीने में ही मेरी शान है…..

Marriage event for disabled couples in Patna, Bihar. This marriage was organised by Disabled Peoples Organisation (DPO) Viklang Adhikar Manch.

पटना, 2019

यह पटना के फतुहा का इंदल जमादार है, जो एक छोटा सा साईकल का दुकान चलाता है और अपनी कमाई से पूरे परिवार का भरण पोषण भी करता है।

इंदल अपना काम स्वयम करता है और गत वर्ष 2018 दिसंबर में इसकी शादी भी हुई है जिसमे पत्नी भी विकलांग है और आज इंदल शादीशुदा जिन्दगी में खुश रहते हुए शान की जिंदगी जी रहा है।